23.1 C
Ranchi
Wednesday, September 15, 2021
Home क्षेत्रीय अन्य भयमुक्त रहकर कोविड 19 पर विजय प्राप्त किया जा सकता है

भयमुक्त रहकर कोविड 19 पर विजय प्राप्त किया जा सकता है

वैश्विक महामारी कोविड 19 अब तक से पहले के महामारियों से कुछ भिन्न है। हम प्लेग की हीं बात करते हैं, जिसने एक समय देश के अधिकांश हिस्से को अपने चपेट में ले लिया था। उसमें होता यह था 

कि घरों में चूहे मर जाते थे और उनमें पिल्लू पड़ जाते थे। जिससे पूरे घर में एक वायरस फैल जाता था और यह वायरस समूचे घरवासियों को अपने चपेट में ले लेता था। जिसका नाम प्लेग दिया गया था। इससे यह स्पष्ट है कि प्लेग नामक महामारी चूहे से फैलनेवाली एक महामारी थी। साथ हीं यह एक से दूसरे में भी फैल जाता था। उस समय लोग गांव घर छोड़कर चुहरहित जगह की तलाश कर घर से बाहर निकलकर रहने को मजबूर हो गए थे। जिसे आपके चाहने और नहीं चाहने का कोई तात्पर्य नहीं है। उस समय इस महामारी के चपेट में घर के घर साफ हो गए। अभी हम कोविड 19 की चर्चा करते हैं, जिसमें कोविड 19 भले हीं चाइना में चमगादड़ से फैली हो, परंतु हमारे देश भारत में यह महामारी एक आदमी से दूसरे आदमी में फैल रहा है।

               प्रश्न यह है कि इस महामारी का हम सामना कैसे करें ? कहते हैं कि मृत्यु से तबतक भयभीत रहा जा सकता है जब वह कोसों दूर हो। लेकिन उस वक्त जब मेरे सामने दस्तक दे रही हो तब उसका डटकर मुकाबला किया जाना चाहिए। मेरे हिसाब से हम इस महामारी का सामना भय- मुक्त रहकर कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले हमें इससे उतपन्न भय को अपने अंदर से निकालना होगा। अपने को पूर्णतः भय मुक्त बनाना होगा। इसके लिए जो दो रास्ते हैं, पहला यह कि हमें यह बीमारी लग गई है और दूसरा यह कि मैं और मेरे परिवार के किसी सदस्य को यह बीमारी अभी तक छू नहीं पाई है। दोनों हीं स्थितियों में भयमुक्त होकर डटकर मुकाबला करना है। परंतु दोनों स्थितियों में मुकाबला करने के स्तर में अंतर है। जिन्हें यह बीमारी लग गई है, उन्हें हम चाह के भी चिंता मुक्त नहीं कर सकते। परन्तु भयमुक्त तो कर हीं सकते हैं। मरीज को हर स्थिति में नए विकल्प को आलिंगन करना चाहिए और उनके चिकित्सक को उन्हें बचाने का हर सम्भव प्रयास करना चाहिए। यह कदापि नहीं सोचना चाहिए कि अभी यह हाल है, तो अब क्या होगा ? हमें हमेंशा यह सोचना होगा कि अभी जो हालात है इसका क्या क्या विकल्प है। जिन्होंने भी इस फार्मूले को अपनाया है, उन्हें औरों के अपेक्षाकृत बेहतर रिजल्ट मिला है। जिन्हें या उनके घरेलू वातावरण में किसी को यह बीमारी नहीं लगी है, उन्हें और उनके परिवार के सदस्यों को सुझाये गए हर एहतियात को आलिंगन करना होगा। तब जाकर भयमुक्त हुआ जा सकता है।

विनय कुमार तिवारी , संपादक

सबसे लोकप्रिय

ॐ का उच्चारण करते समय रखें इन बातों का ध्यान

सनातन धर्म में पूजा पाठ शुरु करते समय ॐ का जाप किया जाता है। 'ॐ' तीन अक्षरों से मिलकर बना है -...

रिया को मिल रही रेप और मर्डर की धमकी

मुंबई (एजेंसी)। रिया चक्रवर्ती को सोशल मीडिया पर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद उन्हें तरह-तरह की धमकियां और गालियां मिल...

अखिलेश ने कहा, योगी बताएं, कानपुर का अपराधी किसके संपर्क में रहा

लखनऊ (एजेंसी)। हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे का नाम लिये बिना समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार से सवाल किया है...

कोरोना संकट में परिजनों के भरण-पोषण के लिए जिंदा रिक्शाचालक कफन ओढ़ बना मुर्दा

आरा, बिहार। कोरोना महामारी के चलते ठप पड़े रोजगार ने गरीब आदमी का जीना दूभर कर दिया है। बिहार में कोरोना संकट...

श्री श्री सूर्यदेव सिंह स्मृति गुरुकुलम के छात्रों ने लहराया परचम।

धनबाद।सीबीएसई 12 का परिणाम सोमवार को घोषित हुआ। श्री श्री सूर्यदेव सिंह स्मृति गुरुकुलम, धनबाद के छात्रों ने अपना परचम लहराया। विद्यालय...

चीन सीमा पर तनाव के बीच एनएसए अजित डोभाल ने हालात पर चर्चा के लिए की अहम बैठक

नई दिल्ली (एजेंसी)। भारत-चीन सीमा पर हालात बेहद तनावपूर्ण हैं। ताजा मामले में चीन ने पैंगोंग इलाके में घुसपैठ की कोशिश...

हाल का