30 C
Ranchi
Sunday, October 25, 2020
Home झारखंड अन्य कुख्यात सुशील श्रीवास्तव हत्याकांड में 5 आरोपियों की सजा

कुख्यात सुशील श्रीवास्तव हत्याकांड में 5 आरोपियों की सजा

2 को मृत्युपर्यन्त आजीवन कारावास, 3 को मृत्यु आजीवन कारावास

हजारीबाग व्यवहार न्यायालय के अपर सत्र न्यायाधीश अमित शेखर की अदालत ने कुख्यात अपराधी सरगना सुशील श्रीवास्तव और तीन अन्य की हत्या के मामले में आज पांच अभियुक्तों को सजा सुनाई। अदालत ने इस मामले में विकास तिवारी और संतोष पांडे को सश्रम आजीवन कारावास मृत्यु तक तथा चालीस-चालीस हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। इसी हत्याकांड के अन्य अभियुक्तों विशाल कुमार सिंह, राहुल देव पांडे और दिलीप साव को भी  उम्रकैद की सजा सुनायी गयी और और तीस-तीस हजार का जुर्माना लगाया गया है। लोक अभियोजक भरत राम ने बताया कि बताया कि 2 जून 2015 को व्यवहार न्यायालय परिसर में ही विकास तिवारी एवं उनके सहयोगियों ने सुशील श्रीवास्तव, ग्यास खान और कमाल खान की एके-47 की अंधाधुंध फायरिंग से हत्या कर दी थी। उन्होंने बताया कि इस मामले में 42 गवाहों ने  अपनी गवाही दर्ज कराई है।

- Advertisement -

लोक अभियोजक भरत राम ने बताया कि  विकास तिवारी एवं संतोष पांडे को सश्रम आजीवन कारावास मृत्यु तक एवं 40000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई गई है। उपरोक्त सजा भादवि की धारा 302 एवं 120 बी के तहत सुनाई गई है। भादवि की धारा 353 में 2 साल और 6000 का जुर्माना,  25(1ए) में 8 साल एवं 25000 का जमाना, 35 में 6 साल व 15 हजार का जुर्माना की सजा सुनाई गई है। 27(2) में 10 साल एवं 20000 का जुर्माना तथा भादवि की धारा 341 में 1 माह की सजा और 200 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इसी प्रकार विस्फोटक अधिनियम 3 के तहत 10 साल और 20000, विस्फोटक अधिनियम 4 में 6 साल और 15000 का जुर्माना, वही विस्फोटक अधिनियम 5 में 6 साल की सजा एवं 15000रुपये  का जुर्माना लगाया गया है।

इसी हत्याकांड के अन्य अभियुक्तों विशाल कुमार सिंह, राहुल देव पांडे एवं दिलीप साव को भी भादवि की धारा 302 और 120 बी के तहत उम्रकैद की सजा और 30,000 का जुर्माना लगाया गया है। भादवि की धारा 353 में 2 साल की सजा एवं 6000रुपये  जुर्माना एवं 341 में 1 माह की सजा और 200रुपये  का जुर्माना लगाया गया है। लोक अभियोजक भरत राम ने बताया कि हजारीबाग व्यवहार न्यायालय का यह बहुत बड़ा फैसला है। उन्होंने बताया कि 2 जून 2015 को व्यवहार न्यायालय परिसर में ही विकास तिवारी एवं उनके सहयोगियों ने सुशील श्रीवास्तव, ग्यास खान एवं कमाल खान की एके-47 की अंधाधुंध फायरिंग से हत्या कर दी थी। बताया गया कि 42 गवाहों ने इस मामले में अपनी गवाही दर्ज कराई है।

- Advertisment -

सबसे लोकप्रिय

पत्नी ने प्रेमी के संग मिल कर की थी पति की हत्या, पत्नी व प्रेमी के अलावे एक अन्य गिरफ्तार

कोडरमा। जिले के चंदवारा थाना क्षेत्र अंतर्गत दो दिन पूर्व  रितेश सोनी नामक व्यक्ति की मौत मामले का खुलासा हो गया है।...

जापान में डिलीवरी रोबोट जल्द नज़र आएंगे

रोबोट आपके दरवाज़े तक करेंगे डिलीवर टोक्यो (एजेंसी)। जापान में सड़कों पर डिलीवरी रोबोट जल्द नज़र आने वाले...

बारिश से कई इलाकों में फ्लैश फ्लड का खतरा मंडराया

झमाझम बारिश से अच्छी पैदावार की भी आस जगी रांची। झारखंड के के अनेक हिस्सों में बारिश का सिलसिला...

बच्चों, किशोरों में मोबाइल के कारण बढ़ रही थकान

कोरोना महामारी के खतरे को देखते हुए आजकल ऑललाइन क्लास का दौर चल रहा है पर इस दौरान मोबाइल का अघिक उपयोग...

232 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिले,संख्या बढ़कर 5342 हुई

रांची। झारखंड में कोरोना संक्रमित नये मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है। शनिवार को राज्य के विभिन्न जिलों में 232 नये...

चीन लगाएगा डॉ कोटनीस की प्रतिमा

कांस्य प्रतिमा का अगले माह करेगा अनावरण बीजिंग (एजेंसी)। उत्तरी चीन में एक चिकित्सा स्कूल के बाहर प्रसिद्ध...

हाल का