25 C
Ranchi
Wednesday, January 20, 2021
Home झारखंड अन्य कुख्यात सुशील श्रीवास्तव हत्याकांड में 5 आरोपियों की सजा

कुख्यात सुशील श्रीवास्तव हत्याकांड में 5 आरोपियों की सजा

2 को मृत्युपर्यन्त आजीवन कारावास, 3 को मृत्यु आजीवन कारावास

हजारीबाग व्यवहार न्यायालय के अपर सत्र न्यायाधीश अमित शेखर की अदालत ने कुख्यात अपराधी सरगना सुशील श्रीवास्तव और तीन अन्य की हत्या के मामले में आज पांच अभियुक्तों को सजा सुनाई। अदालत ने इस मामले में विकास तिवारी और संतोष पांडे को सश्रम आजीवन कारावास मृत्यु तक तथा चालीस-चालीस हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई गई है। इसी हत्याकांड के अन्य अभियुक्तों विशाल कुमार सिंह, राहुल देव पांडे और दिलीप साव को भी  उम्रकैद की सजा सुनायी गयी और और तीस-तीस हजार का जुर्माना लगाया गया है। लोक अभियोजक भरत राम ने बताया कि बताया कि 2 जून 2015 को व्यवहार न्यायालय परिसर में ही विकास तिवारी एवं उनके सहयोगियों ने सुशील श्रीवास्तव, ग्यास खान और कमाल खान की एके-47 की अंधाधुंध फायरिंग से हत्या कर दी थी। उन्होंने बताया कि इस मामले में 42 गवाहों ने  अपनी गवाही दर्ज कराई है।

- Advertisement -

लोक अभियोजक भरत राम ने बताया कि  विकास तिवारी एवं संतोष पांडे को सश्रम आजीवन कारावास मृत्यु तक एवं 40000 रुपये के जुर्माने की सजा सुनाई गई है। उपरोक्त सजा भादवि की धारा 302 एवं 120 बी के तहत सुनाई गई है। भादवि की धारा 353 में 2 साल और 6000 का जुर्माना,  25(1ए) में 8 साल एवं 25000 का जमाना, 35 में 6 साल व 15 हजार का जुर्माना की सजा सुनाई गई है। 27(2) में 10 साल एवं 20000 का जुर्माना तथा भादवि की धारा 341 में 1 माह की सजा और 200 रुपये का जुर्माना लगाया गया है। इसी प्रकार विस्फोटक अधिनियम 3 के तहत 10 साल और 20000, विस्फोटक अधिनियम 4 में 6 साल और 15000 का जुर्माना, वही विस्फोटक अधिनियम 5 में 6 साल की सजा एवं 15000रुपये  का जुर्माना लगाया गया है।

इसी हत्याकांड के अन्य अभियुक्तों विशाल कुमार सिंह, राहुल देव पांडे एवं दिलीप साव को भी भादवि की धारा 302 और 120 बी के तहत उम्रकैद की सजा और 30,000 का जुर्माना लगाया गया है। भादवि की धारा 353 में 2 साल की सजा एवं 6000रुपये  जुर्माना एवं 341 में 1 माह की सजा और 200रुपये  का जुर्माना लगाया गया है। लोक अभियोजक भरत राम ने बताया कि हजारीबाग व्यवहार न्यायालय का यह बहुत बड़ा फैसला है। उन्होंने बताया कि 2 जून 2015 को व्यवहार न्यायालय परिसर में ही विकास तिवारी एवं उनके सहयोगियों ने सुशील श्रीवास्तव, ग्यास खान एवं कमाल खान की एके-47 की अंधाधुंध फायरिंग से हत्या कर दी थी। बताया गया कि 42 गवाहों ने इस मामले में अपनी गवाही दर्ज कराई है।

- Advertisment -

सबसे लोकप्रिय

अमर सिंह का निधन, लंबे समय से थे बीमार

नई दिल्ली (एजेंसी)। लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे समाजवादी पार्टी (एसपी) के पूर्व नेता अमर सिंह का निधन हो गया...

10वीं में बोकारो के बच्चों ने बजाया कामयाबी का डंका

99 फीसदी अंक लाकर हर्ष बना जिला टॉपर, अनूप दूसरे तो ऋषभ, रितिशा व सौम्या को तीसरा स्थान बोकारो...

फ्रांस से रवाना हुए 5 राफेल विमान, कल पहुंचेंगे भारत, जाने राफेल की खासियत

नई दिल्ली (ईएमएस)। फ्रांसीसी लड़ाकू विमान राफेल जेट की प्रतीक्षा अब खत्म हुई। फ्रांस से सोमवार को 5 राफेल लड़ाकू विमानों का...

बोकारो: गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड के पुराने रिकॉर्ड को तोड़कर नया कीर्तिमान स्थापित करने की योजना

बोकारो जिला प्रशासन  5 सितंबर को लगाएगा ब्लड डोनेशन कैम्प जिले में कुल 120 कैम्प का आयोजनबोकारो : बोकारो जिला प्रशासन...

श्री श्री सूर्यदेव सिंह स्मृति गुरुकुलम के छात्रों ने लहराया परचम।

धनबाद।सीबीएसई 12 का परिणाम सोमवार को घोषित हुआ। श्री श्री सूर्यदेव सिंह स्मृति गुरुकुलम, धनबाद के छात्रों ने अपना परचम लहराया। विद्यालय...

बुकर पुरस्कार की सूची में भारतवंशी लेखिका अवनि दोशी का नाम

लंदन (एजेंसी)। भारत के लिए गौरव की बात है कि दुबई में रहने वाली भारतवंशी लेखिका अवनि दोशी समेत 13 लेखकों के...

हाल का