18 C
Ranchi
Wednesday, January 20, 2021
Home स्वास्थ्य और फिटनेस वयस्क होने पर ब्लैडर कैंसर का कारण बन सकता है बचपन का...

वयस्क होने पर ब्लैडर कैंसर का कारण बन सकता है बचपन का मोटापा

डेनमार्क में 3,15,000 से अधिक बच्चों पर किए अध्ययन में हुआ खुलासा

नई दिल्ली (एजेंसी)। बच्चे के शरीर में अधिक फैट होने से उसको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इनमें डायबिटीज, हृदय रोग और अस्थमा आदि होने का जोखिम होता है, लेकिन हालिया अध्ययन एक और जोखिम की ओर इशारा करता है। अध्ययन में सामने आया है कि वे वयस्क जिनका बचपन में अधिक वजन था, उन्हें मूत्राशय के कैंसर (ब्लैडर कैंसर) के विकास का अधिक खतरा हो सकता है। यह अध्ययन एनल्स ऑफ ह्यूमन बायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित हुआ है। डेनमार्क में 3,15,000 से अधिक बच्चों पर किए अध्ययन में पता चला कि शरीर का आकार उनके वयस्क जीवन में यह रोग होने के जोखिम को बढ़ाता है।

- Advertisement -

बचपन में औसत से ऊपर बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) का बढ़ना, हाई या लो बर्थ वेट और कम या औसत ऊंचाई जैसे कारक भी परेशानियों को बढ़ाते हैं। डेनमार्क में बिस्पेबर्ज और फ्रेडरिकसबर्ग हॉस्पिटल के वैज्ञानिकों का कहना है कि जल्द कारणों की पहचान करने से बीमारी को लेकर एक नई समझ पैदा हो सकती है, जो दुनिया में 9वां सबसे आम कैंसर है। इसकी पुनरावृत्ति दर अधिक है और 65 वर्ष से अधिक आयु के पुरुषों को प्रभावित करती है। अध्ययन यह समझ पैदा करने में योगदान देता है कि किस तरह शुरुआती जीवन में शरीर का आकार मूत्राशय के कैंसर के जोखिम का संकेत हो सकता है।

विशेषज्ञों के मुताबिक मूत्राशय के कैंसर और मोटापे जैसे जीवनशैली के बीच की कड़ी पहले से ही स्थापित है। हालांकि इस बारे में बहुत कम जानकारी है कि इसकी उत्पत्ति बचपन से जुड़ी है। निष्कर्ष 1930 और 1989 के बीच पैदा हुए 315,763 बच्चों और 7 से 13 साल की आयु से संबंधित जानकारी पर आधारित थे। कोपेनहेगन स्कूल हेल्थ रिकॉर्ड्स रजिस्टर के इस डेटा में बीएमआई, बर्थ वेट और ऊंचाई शामिल थी और डेनिश कैंसर रजिस्ट्री के साथ क्रॉस-रेफरेन्स किया गया था। वयस्कों के रूप में मूत्राशय के कैंसर का पता लगाने वाले व्यक्तियों की संख्या 1,145 थी।

विशेषज्ञों का कहना है कि मूत्राशय यानी ब्लैडर मानव शरीर में पेट के निचले हिस्से में स्थित एक खोखला थैलीनुमा अंग होता है, जिसमें पेशाब जमा होती है। मूत्राशय का कैंसर तब होता है, जब उसकी आंतरिक परतों में असाधारण रूप से ऊतक विकसित होने लगते हैं। ब्लैडर कैंसर महिलाओं से ज्यादा पुरुषों में होता है। यह किसी भी उम्र में हो सकता है। मूत्राशय कैंसर के लक्षणों में पेशाब में खून आना, पेशाब करने के दौरान दर्द, पेडू में दर्द होना शामिल हैं। कई बार लोग पीठ दर्द और बार-बार पेशाब आने जैसे लक्षण भी महसूस करते हैं।

- Advertisment -

सबसे लोकप्रिय

अमर सिंह का निधन, लंबे समय से थे बीमार

नई दिल्ली (एजेंसी)। लंबे समय से बीमारी से जूझ रहे समाजवादी पार्टी (एसपी) के पूर्व नेता अमर सिंह का निधन हो गया...

मुकेश अंबानी बने अब दुनिया के छठे सबसे अमीर इंसान

रिलायंस के शेयरों में 3 फीसदी उछाल का मिला फायदा नई दिल्ली(एजेंसी)। रिलायंस के शेयरों में 3 फीसदी का...

सरकारी-निजी स्कूलों में होगा एक नियम

मनमानी फीस पर भी लगेगी लगाम नई दिल्ली (एजेंसी) । नई शिक्षा नीति के तहत 2030 तक शत-प्रतिशत...

जीवन की समस्याआं का समाधान बताते हैं यंत्र

Yantra show solutions to problems of life हिन्दू धर्म के अनेक ग्रंथों में कई तरह के चक्रों और यंत्रों...

नवम्बर में बोकारो इस्पात संयंत्र का शानदार प्रदर्शन उत्पादन के बने कई कीर्तिमान

बोकारो ः कोविड-19 की चुनौतियों से उबरते हुए बोकारो इस्पात संयंत्र लगातार बेहतर प्रदर्शन कर रहा है, जिसका सिलसिला नवम्बर माह में भी जारी रहा। प्लांट...

आयरलैंड ने तीसरा एकदिवसीय जीता, इंग्लैंड ने 2-1 से सीरीज अपने नाम की

साउथैम्पटन (एजेंसी)। आयरलैंड ने यहां खेले गए तीसरे और आखिरी एकदिवसीय क्रिकेट मैच में इंग्लैंड को सात विकेट से हराकर सबको...

हाल का