27.1 C
Ranchi
Thursday, July 29, 2021
Home स्वास्थ्य और फिटनेस वयस्क होने पर ब्लैडर कैंसर का कारण बन सकता है बचपन का...

वयस्क होने पर ब्लैडर कैंसर का कारण बन सकता है बचपन का मोटापा

डेनमार्क में 3,15,000 से अधिक बच्चों पर किए अध्ययन में हुआ खुलासा

नई दिल्ली (एजेंसी)। बच्चे के शरीर में अधिक फैट होने से उसको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। इनमें डायबिटीज, हृदय रोग और अस्थमा आदि होने का जोखिम होता है, लेकिन हालिया अध्ययन एक और जोखिम की ओर इशारा करता है। अध्ययन में सामने आया है कि वे वयस्क जिनका बचपन में अधिक वजन था, उन्हें मूत्राशय के कैंसर (ब्लैडर कैंसर) के विकास का अधिक खतरा हो सकता है। यह अध्ययन एनल्स ऑफ ह्यूमन बायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित हुआ है। डेनमार्क में 3,15,000 से अधिक बच्चों पर किए अध्ययन में पता चला कि शरीर का आकार उनके वयस्क जीवन में यह रोग होने के जोखिम को बढ़ाता है।

बचपन में औसत से ऊपर बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) का बढ़ना, हाई या लो बर्थ वेट और कम या औसत ऊंचाई जैसे कारक भी परेशानियों को बढ़ाते हैं। डेनमार्क में बिस्पेबर्ज और फ्रेडरिकसबर्ग हॉस्पिटल के वैज्ञानिकों का कहना है कि जल्द कारणों की पहचान करने से बीमारी को लेकर एक नई समझ पैदा हो सकती है, जो दुनिया में 9वां सबसे आम कैंसर है। इसकी पुनरावृत्ति दर अधिक है और 65 वर्ष से अधिक आयु के पुरुषों को प्रभावित करती है। अध्ययन यह समझ पैदा करने में योगदान देता है कि किस तरह शुरुआती जीवन में शरीर का आकार मूत्राशय के कैंसर के जोखिम का संकेत हो सकता है।

विशेषज्ञों के मुताबिक मूत्राशय के कैंसर और मोटापे जैसे जीवनशैली के बीच की कड़ी पहले से ही स्थापित है। हालांकि इस बारे में बहुत कम जानकारी है कि इसकी उत्पत्ति बचपन से जुड़ी है। निष्कर्ष 1930 और 1989 के बीच पैदा हुए 315,763 बच्चों और 7 से 13 साल की आयु से संबंधित जानकारी पर आधारित थे। कोपेनहेगन स्कूल हेल्थ रिकॉर्ड्स रजिस्टर के इस डेटा में बीएमआई, बर्थ वेट और ऊंचाई शामिल थी और डेनिश कैंसर रजिस्ट्री के साथ क्रॉस-रेफरेन्स किया गया था। वयस्कों के रूप में मूत्राशय के कैंसर का पता लगाने वाले व्यक्तियों की संख्या 1,145 थी।

विशेषज्ञों का कहना है कि मूत्राशय यानी ब्लैडर मानव शरीर में पेट के निचले हिस्से में स्थित एक खोखला थैलीनुमा अंग होता है, जिसमें पेशाब जमा होती है। मूत्राशय का कैंसर तब होता है, जब उसकी आंतरिक परतों में असाधारण रूप से ऊतक विकसित होने लगते हैं। ब्लैडर कैंसर महिलाओं से ज्यादा पुरुषों में होता है। यह किसी भी उम्र में हो सकता है। मूत्राशय कैंसर के लक्षणों में पेशाब में खून आना, पेशाब करने के दौरान दर्द, पेडू में दर्द होना शामिल हैं। कई बार लोग पीठ दर्द और बार-बार पेशाब आने जैसे लक्षण भी महसूस करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

पढ़ने का शौक है तो लाइब्रेरी साइंस लें

आम तौर पर माना जाता है कि एक लाइब्रेरियन का काम सिर्फ किताबों की सही तरह से व्यवस्था करना है पर यह...

लैंगिक संवेदनशीलता और समाज

आधुनिक समाज में महिला उत्थान लिए उसका आर्थिक सशक्तीकरण जरूरी है। आज सामाजिक उतरदायित्व ,घरेलू रख-रखाव और उत्पादक कार्यों में माहिलाओं की...

ईएसएल ने अपने वाहनों को इलेक्ट्रिक वाहनों में बदल कर पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रतिबद्धता की पुष्टि की

कारों को इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलने की शुरूआत की, अगले चरण में बसों को बदला जाएगा 2025 तक सभी वाहनों को पूरी तरह इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलने का लक्ष्य पर्यावरण संरक्षण एवं स्थायित्व के लिए अपनी प्रतिबद्धता तथा सभी वाहनों को 2025 तक...

दिशा ने रातों-रात की यूजर्स की बोलती बंद

मुंबई (ईएमएस)। बॉलीवुड एक्ट्रेस दिशा पटानी की तस्वीरों पर यूजर्स ने उन्हें अपनी स्टाइलिस्ट चेंज करने की नसीहत दे दी थी। लोगों...

ऑनलाइन शतरंज ओलंपियाड में भारत और रूस बने संयुक्त विजेता

नई दिल्ली (एजेंसी)। इंटरनेट और सर्वर की खराबी के कारण भारत और रुस को ऑनलाइन विश्व शतरंज ओलंपियाड का संयुक्त विजेता घोषित...

12वीं के बाद कर सकते हैं यह कोर्स

बारहवीं के परिणाम घोषित हो गये हैं। अब छात्रों की नजर भविष्य पर है। जो छात्र कला क्षेत्र के हैं उनके लिए...

हाल का

आषाढ़ पूर्णिमा को हीं गुरु पूर्णिमा क्यों मनाया जाता है

गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वर:।गुरुर्साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नम:।। अर्थात गुरु ब्रह्मा, विष्णु और महेश है। गुरु तो परम...

गुरु के संसर्ग में ही निखरता है आत्म-प्रकाश

गुरु पूर्णिमा अवसर है हर शिष्य के लिए आत्म-दर्शन का। गूगल का जमाना है। प्रश्नों से अधिक उत्तर हैं। इसलिए कई प्रबुद्ध...