24.1 C
Ranchi
Thursday, July 29, 2021
Home बड़ी ख़बर अंतरराष्ट्रीय भारत के वैश्विक शक्ति बनने में अमेरिका मददगार की भूमिका निभाना चाहता...

भारत के वैश्विक शक्ति बनने में अमेरिका मददगार की भूमिका निभाना चाहता है अमेरिका : बाइगुन

वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका उप विदेश मंत्री स्टीफन बाइगुन ने कहा अमेरिका भारत को विश्व शक्ति बनने में मदद करने का इच्छुक है । उन्होंने संकेत दिया कि डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन बेहतरीन रक्षा क्षमता के साथ भारत का समर्थन करने को उत्सुक है। अमेरिका के उप विदेश मंत्री स्टीफन बाइगुन ने यह बात अमेरिक-भारत रणनीतिक और साझेदारी मंच (यूएसआईएसपीएफ) द्वारा आयोजित तीसरे भारत-अमेरिका नेतृत्व सम्मेलन में कही, जिसे डिजिटल माध्यम से आयोजित किया गया था।

उन्होंने कहा कि दुनिया के सबसे पुराने और सबसे विशाल लोकतंत्र के बीच साझेदारी गत दो दशक में लगतार मजबूत हुई है और इसके आगे भी जारी रहने की उम्मीद है। भारत में अमेरिका के पूर्व राजदूत रिचर्ड वर्मा के एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा हम भारत को सुरक्षा तंत्र में योगदान करने के लिए विश्व स्तरीय ताकत बनने में मदद करने को इच्छुक हैं। मैं मानता हं कि रक्षा सहयोग इसमें महत्वपूर्ण है। बता दें कि वर्मा ने पूछा था कि अमेरिका रक्षा सहयोग, निर्यात नियंत्रण और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण के संबंध में और क्या कर सकता है।

सुरक्षा तंत्र मुहैया कराने वाले सुरक्षा चिंताओं का सामना सामान लक्ष्य के साथ विभिन्न देशों के साथ साझेदारी कर करते हैं। उप विदेश मंत्री ने कहा कि प्रतिरोधात्मक रुझानों में से एक, भारत की रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर होने की इच्छा है और उसे मैं समझता हूं। कोई भी देश पूरी तरह से दूसरे देश पर निर्भर नहीं रहना चाहता है। यहां तक कि भारत और अमेरिका की करीबी साझेदारी में भी, अभी समय है जिसका परीक्षण क्षेत्र में होने वाली घटनाओं या देशों से हो जाएगा।

उन्होंने कहा मैं समझता हूं, लेकिन मैं मानता हूं कि भारत को बेहतरीन रक्षा क्षमता देने के मामले में अलग नहीं किया जा सकता है, मैं मानता हूं कि भारत को आने वाले हफ्तों या महीनों में अमेरिका में उन खास क्षेत्र में बहुत ही इच्छुक और सृजनात्मक सोच वाला साझेदार मिलने जा रहा है। उन्होंने कहा कि गत दो दशक में चार अमेरिकी राष्ट्रपतियों और तीन भारतीय प्रधानमंत्रियों ने राजनीतिक विचार से इतर भारत-अमेरिका साझेदारी में निवेश किया है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक ने अपने उत्तराधिकारी को बेहतर रिश्ते की विरासत सौंपी।

सबसे लोकप्रिय

पढ़ने का शौक है तो लाइब्रेरी साइंस लें

आम तौर पर माना जाता है कि एक लाइब्रेरियन का काम सिर्फ किताबों की सही तरह से व्यवस्था करना है पर यह...

लैंगिक संवेदनशीलता और समाज

आधुनिक समाज में महिला उत्थान लिए उसका आर्थिक सशक्तीकरण जरूरी है। आज सामाजिक उतरदायित्व ,घरेलू रख-रखाव और उत्पादक कार्यों में माहिलाओं की...

ईएसएल ने अपने वाहनों को इलेक्ट्रिक वाहनों में बदल कर पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रतिबद्धता की पुष्टि की

कारों को इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलने की शुरूआत की, अगले चरण में बसों को बदला जाएगा 2025 तक सभी वाहनों को पूरी तरह इलेक्ट्रिक वाहनों में बदलने का लक्ष्य पर्यावरण संरक्षण एवं स्थायित्व के लिए अपनी प्रतिबद्धता तथा सभी वाहनों को 2025 तक...

दिशा ने रातों-रात की यूजर्स की बोलती बंद

मुंबई (ईएमएस)। बॉलीवुड एक्ट्रेस दिशा पटानी की तस्वीरों पर यूजर्स ने उन्हें अपनी स्टाइलिस्ट चेंज करने की नसीहत दे दी थी। लोगों...

12वीं के बाद कर सकते हैं यह कोर्स

बारहवीं के परिणाम घोषित हो गये हैं। अब छात्रों की नजर भविष्य पर है। जो छात्र कला क्षेत्र के हैं उनके लिए...

ऑनलाइन शतरंज ओलंपियाड में भारत और रूस बने संयुक्त विजेता

नई दिल्ली (एजेंसी)। इंटरनेट और सर्वर की खराबी के कारण भारत और रुस को ऑनलाइन विश्व शतरंज ओलंपियाड का संयुक्त विजेता घोषित...

हाल का

गुरु के संसर्ग में ही निखरता है आत्म-प्रकाश

गुरु पूर्णिमा अवसर है हर शिष्य के लिए आत्म-दर्शन का। गूगल का जमाना है। प्रश्नों से अधिक उत्तर हैं। इसलिए कई प्रबुद्ध...

आषाढ़ पूर्णिमा को हीं गुरु पूर्णिमा क्यों मनाया जाता है

गुरुर्ब्रह्मा, गुरुर्विष्णु गुरुर्देवो महेश्वर:।गुरुर्साक्षात् परब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नम:।। अर्थात गुरु ब्रह्मा, विष्णु और महेश है। गुरु तो परम...