30 C
Ranchi
Saturday, April 10, 2021
Home जीवन शैली धर्म इस मंदिर में पुरुषों को नहीं मिलता है प्रवेश

इस मंदिर में पुरुषों को नहीं मिलता है प्रवेश

सनातन धर्म में तीर्थ-स्थानों में पूजा-पाठ को लेकर कई तरह के नियम और परंपराएं हैं जिनका पालन सदियों से हो रहा है। इसी के तहत देश के कुछ मंदिरों में जहां महिलाओं का प्रवेश वर्जित है, वहीं केरल में एक ऐसा मंदिर है जिसमें पुरुषों को प्रवेश की अनुमति नहीं है। अगर इस मंदिर में दर्शन करना ही है तो प्रवेश करने के लिए पुरुषों को भी महिलाओं की तरह ही 16 श्रृंगार कर जाना होता है।

- Advertisement -

केरल के कोल्लम जिले में स्थित यह मंदिर श्री कोत्तानकुलांगरा देवी का है। इस मंदिर के नियम के अनुसार यहां सिर्फ महिलाएं और किन्नर ही प्रवेश पा सकते हैं। वहीं पुरुषों को प्रवेश के लिए स्त्री का वेश धारण करना पड़ता है। इस मंदिर में न सिर्फ महिलाएं और किन्नर बड़ी संख्या में देवी पूजन के लिए आते हैं बल्कि पुरुष भी नियम के अनुसार महिलाओं के कपड़े पहन कर देवी की पूजा करते हैं।

श्री कोत्तानकुलांगरा देवी मंदिर में हर साल चाम्याविलक्कू का पर्व विशेष रूप से मनाया जाता है। जिसमें शामिल होने के लिए दूर-दराज से बड़ी संख्या में पुरुष श्रद्धालु आते हैं। जिन्हें मंदिर में प्रवेश के लिए न सिर्फ स्त्रियों के कपड़े पहनने पड़ते हैं बल्कि उनकी तरह 16 श्रृंगार करते हुए गहने, गजरा आदि भी लगाना पड़ता है।

चाम्याविलक्कू त्योहार में शामिल होने वाले पुरुष श्रद्धालुओं को सजने-संवरने के लिए एक अलग से मेकअप रूम बनाया जाता है। जहां पर वे महिलाओं की तरह 16 श्रृंगार करते हैं। इस मंदिर में प्रवेश के लिए भले ही कपड़ों आदि को लेकर नियम और शर्तें हों लेकिन उम्र का कोई बंधन नहीं है। यहां हर उम्र का पुरुष महिलाओं की तरह श्रृंगार करके प्रवेश पा सकता है।

श्री कोत्तानकुलांगरा देवी के मंदिर की खास बात यह भी है कि इसके गर्भगृह के ऊपर छत और कलश नहीं है। मान्यता यह भी है कि यहां देवी स्वयं प्रकट हुई थीं। देवी के पूजन के लिए यहां पर बड़ी संख्या में किन्नर आते हैं। मान्यता है कि श्री कोत्तानकुलांगरा देवी की शिला को जब पहली बार कुछ चरवाहों ने देखा तो उन्होंने वस्त्र, फूल आदि अर्पित करके देवी का पूजा किया।

जिसके बाद देवी की इस शिला से दिव्य शक्ति निकलने लगी। इसके पश्चात् इस मंदिर का निर्माण हुआ हालांकि इस मंदिर के बारे में यह भी कथा मिलती है कि जब कुछ लोगों द्वारा यहां इस शिला पर नारियल फोड़ा गया तो इस शिला से खून निकलने लगा था। उस चमत्कार को देखने के बाद लोगों ने इस शक्तिपीठ पर पूजन प्रारंभ कर दिया।

- Advertisment -

सबसे लोकप्रिय

बहरीन की महिला खिलाड़ी डोप टेस्ट में विफल, भारतीय मिश्रित रिले टीम को मिला स्वर्ण

नई दिल्ली (एजेंसी)। बहरीन की 2018 एशियाई खेलों की स्वर्ण विजेता रिले टीम डोप जांच में विफल रही है। ऐसे में भारत...

देश के पहले दृष्टिबाधित आईएएस अधिकारी ने बोकारो के उपायुक्त के रूप में पदभार ग्रहण किए

बोकारो के 32 वें उपायुक्त राजेश कुमार सिंह ने लिया पदभार बोकारो (एजेंसी)। बोकारो समाहरणालय सभाकक्ष में आज को...

बीएमडब्ल्यू ने भारत में लॉन्च 20.90 लाख की बाइक

बाइक का सिर्फ एक वेरियंट 'प्रो' पेश किया नई दिल्ली (एजेंसी)। भारतीय बाजार में बीएमडब्ल्यू मोटोरॉड ने नई बीएमडब्ल्यू...

यूपीएससी परीक्षा में देवघर के रवि जैन टॉप टेन में, 9वां स्थान मिला

झारखंड के भी कई अभ्यर्थियों को मिली सफलता रांची(एजेंसी)। । संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने सिविल सेवा परीक्षा...

इतिहास में भी हैं अवसर

इतिहास में प्राचीन मानव संस्कृति, पुरानी सभ्यता, खंडहरों, उनकी गतिविधियों, प्राचीन सिक्के, बर्तन, चमड़े की किताबें, भोजपत्र पर लिखित पुस्तकें, शहरों के...

ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन पहले टेस्ट में पास

लंदन (एजेंसी)। अमेरिका के बाद अब ब्रिटेन की ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन के नतीजे भी सफल आए हैं। ऑक्सफोर्ड की दवा...

हाल का