28 C
Ranchi
Tuesday, October 13, 2020
Home जीवन शैली करियर मोबाइल एप के विकास में सुनहरा भविष्य

मोबाइल एप के विकास में सुनहरा भविष्य

आज कल दुनिया के अधिकतर लोग मोबाइल इस्तेमाल कर रहे हैं। इस व्यस्त जीवनशैली में लोगों के पास समय की भारी कमी रहती है। कई कामों के लिए अलग-अलग समय निकालना मुश्किल है, इसलिए लोग अब चाहते हैं कि उन्हे अधिक से अधिक चीजें मोबाइल पर उपलब्ध हो जाए। जिससे वह अपने खाली वक्त उन जरूरी कामों को निपटा सकें। आवश्यक कार्यों के अतिरिक्त लोग अपने मोबाइल पर क्रिकेट स्कोर, वीडियो, मूवी आदि भी देखना पसंद करते हैं। वक्त के साथ लोगों की जरूरतें बढ़ती जा रही है। आने वाले दिनों में लोग अपने अन्य कई सारे कार्य और शौक मोबाइल पर ही पूरा करना पसंद करेगें।

- Advertisement -

सूचना तकनीक के क्षेत्र में रोजगार की संभावनाओं से संबंधित विशेषज्ञों के मुताबिक मोबाइल एप्लीकेशन विकसित करने का काम आने वाले वर्षों में पहले पायदान पर होगा। सूचना तकनीक के क्षेत्र में मोबाइल एप्लीकेशन विकसित करने के काम में बहुत बड़ी खाई दिख रही है। जॉब के मुकाबले काम करने वाले प्रतिभावान लोगों की कमी है। एक अध्ययन के मुताबिक यह करियर 2020 तक बढना जारी रहेगा।

मोबाइल एप से ग्राहकों को सूचनाओं, मनोरंजन, अपने कामकाज, शिक्षा, खरीददारी, मेलजोल आदि के लिए संपर्क में रहने का नया और सबसे बेहतरीन तरीका मिलता है। ये एप या तो बेचे जाते हैं या फिर एप्पल के एप स्टोर या फिर एनड्रॉइड गूगल प्ले जैसे वर्चुअल मार्केट से मुफ्त में प्राप्त किए जा सकते हैं। लम्बे वक्त से स्थापित संस्थान जो क्रेताओं तक तुरंत पहुंचना चाहती हैं या फिर नवोदित कम्पनियां जो नए बाजार का एक हिस्सा हथियाना चाहती हैं, सभी को एप विकसित करने वालों की जरूरत होती है जिससे कि ग्राहकों से सीधे जुड़ने का एक इंटरफेस बना सकें जो उन्हें सफल बनाए।

हालांकि बहुत से एप बनाने वाले लोग कम्पनियों के कर्मचारियों के रूप में कार्य करते हैं, लेकिन कुछ उद्यमी होते हैं जो एप्पल जैसी हार्डवेयर बनाने वाली कम्पनियों के इस प्रयत्न का फायदा उठाते हैं कि प्रोग्राम डिजाइन का बल लोगों तक पहुंचे। नए किस्म के एप बनाने वालों को यह ओपन सॉर्स माडल प्रोत्साहित करता है। इसके लिए सरलता से उपयोग में आ सकने वाले साफ्टवेयर डिवैल्पमैंट किट का प्रयोग होता है। इसके अतिरिक्त अपने खुद के एप लिखने वालों के लिए सपोर्ट फोरम भी होते हैं इसलिए कोई बड़े विचार वाला व्यक्ति कम संसाधन होने के बावजूद अपने वक्त और प्रतिबद्धता के बल पर अकेले ही कार्य कर सफल एप विकसित कर सकता है।

- Advertisment -

सबसे लोकप्रिय

बच्चों, किशोरों में मोबाइल के कारण बढ़ रही थकान

कोरोना महामारी के खतरे को देखते हुए आजकल ऑललाइन क्लास का दौर चल रहा है पर इस दौरान मोबाइल का अघिक उपयोग...

ह्यूमन ट्रायल के दूसरे चरण में पहुंची ब्रिटेन की एक और कोरोना वैक्सीन

लंदन (एजेंसी)। लंदन के इंपीरियल कॉलेज की कोरोना वायरस वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल के दूसरे चरण में पहुंच गई है। इससे जुड़े वैज्ञानिकों...

232 नये कोरोना संक्रमित मरीज मिले,संख्या बढ़कर 5342 हुई

रांची। झारखंड में कोरोना संक्रमित नये मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है। शनिवार को राज्य के विभिन्न जिलों में 232 नये...

वॉट्सऐप में खत्म होगी स्टोरेज की समस्या

नई दिल्ली (एजेंसी)। ऐंड्रॉयड यूजर्स के लिए वॉट्सऐप स्टोरेज की समस्या खत्म करने के लिए नए टूल पर काम कर रहा...

भारत की पहली वैक्सीन तैयार, जुलाई से ट्रायल

हैदराबाद (ईएमएस)। भारत की अग्रणी वैक्सीन निर्माता भारत बायोटेक ने घोषणा की कि उसने सफलतापूर्वक कोरोना वायरस की वैक्सीन कोवाक्सिन बना ली...

कोरोना महामारी के कारण रद्द कर दिया गया है एशिया कप : गांगुली

क्रिकेट को सुरक्षित रखने किया गया है फैसला : मनी मुम्बई (एजेंसी)। बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने कहा है...

हाल का